PM Kisan Scheme को लेकर हो सकता है ये ऐलान, किसानों को तोहफा

हाय दोस्तों केंद्र सरकार PM Kisan Scheme के तहत मिलने वाली ₹6000 की धनराशि; में बढ़ावा कर सकती है। और इस बार के बजट में किसानों देश के सभी किसानों; ने सरकार से यह मांग की है। कि यह धनराशि खेती के लिए पर्याप्त नहीं है और इसको बढ़ाया जाए।

1 फरवरी को मंत्री निर्मला सीतारमण साल 2021-22 का बजट पेश करेंगी। हॉर्स बजट पेश करने की तैयारियां शुरू हो गई हैं। ऐसे में किसानों की तरफ सरकार का पूरा फोकस है। तीन कृषि कानूनों के चलते दिल्ली बॉर्डर पर हो रहे आंदोलन के बीच बजट में सरकार किसानों के हित में कई बड़े अनाउंसमेंट कर सकती है।

बढ़ा सकती है सरकार धनराशि

केंद्र सरकार पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत मिलने वाली रकम को बढ़ा सकती है; इस बार के बजट में किसानों ने सरकार से अपील की है कि यह रकम खेती के लिए अपर्याप्त है; और इस को बढ़ाया जाए। वित्त साल 2019-20 के लिए बजट करीब 1.51 लाख करोड़ था जो अगले साल 2020-21 मैं लगभग 1.54 लाख करोड़ हो गया।

और इसके अलावा ग्रामीण विकास के लिए आवंटन में ही 2019-20 मैं करीब 1.40 लाख करोड़ की तुलना में 2020-21 मैं बढ़ाकर 1.44 लाख करोड़ कर दिया गया है। कृषि सिंचाई योजना के अंतर्गत 2019-20 में 9682 करोड़ से बढ़कर 11,127 करोड़ और पीएम फसल बीमा योजना के द्वारा 2019-20 मैं 14,000 करोड़ से बढ़ाकर 2020-21 मैं 15,695 करोड़ कर दिया गया है।

रु 500 महीना कम

देश के किसानों का कहना है कि पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत जो रकम मिलती है, वह प्रति महीना 500 है जो बहुत कम है, एक बीघा में धान की फसल को उगाने में करीब 3-3.5 खर्चा आता है। और गेहूं की फसल में खर्च 2-2.5 होता है।0 ऐसे में ज्यादा जमीन वाले लोगों के लिए 6000 बहुत कम रकम है।और इस रकम को बढ़ाना चाहिए ताकि खर्चों को पूरा किया जा सके।

दिसंबर 2018 में शुरू हुई थी यह PM Kisan Scheme

दोस्तों यह योजना 1 दिसंबर 2018 को आरंभ की गई थी और इसके द्वारा साल में तीन बार; 22 हजार की रकम किस्तों के रूप में सालाना ₹6000 केंद्र सरकार किसानों के अकाउंट में भेजती है;। इसका लाभ सभी किसानों को मिलता है। इस योजना के द्वारा अप्रैल से जुलाई अगस्त से नवंबर और दिसंबर से लेकर मार्च तक रकम किसानों के खाते में भेज दी जाती है।

इसे भी पढ़े…

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *