प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना आवेदन के बाद भी 1.44 करोड़ किसानो को नहीं मिली क़िस्त

किसानों पर भारी पड़ रही है। कागजातों में स्पेलिंग की गलती इसी वजह से आवेदन करने के बावजूद देश के 1.44 करोड़ किसानों को प्रधानमंत्री सम्मान किसान निधि योजना की एक भी किस्त नहीं मिल रही है। यह गलती ठीक किए बिना पैसा नहीं मिलने वाला है ज्यादातर किसानों के आधार संख्या और अन्य रिकॉर्ड में गलती पाई गई है।

इसलिए उनका वेरिफिकेशन नहीं हो रहा है। और पेंडिंग दिखा रहा है। बिना वेरिफिकेशन के किसानों को मदद नहीं मिल रही है। कृषि अधिकारियों का कहना है। की पीएम किसान सम्मान निधि योजना के आवेदन करने वाले किसानों के नाम और अकाउंट नंबर मैं गलती की वजह से योजना का ऑटोमेटिक सिस्टम उसे पास नहीं कर पाता है।

अब क्या करें किसान?

किसानों के आधार और अन्य दस्तावेजों मैं नाम की स्पेलिंग में गलती है तो आधार कार्ड को दुरुस्त करके नए कार्ड को अपडेट कीजिए पीएम किसान योजना की ऑफिशल वेबसाइट पर जाइए इसके कार्नर में edit Aadhar details पर क्लिक कीजिए आपको यहां अपना आधार नंबर सही-सही दर्ज करना है इसके बाद एक कैप्चा कोड भरकर सबमिट कर दीजिए।

मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक अगर आपका केवल नाम गलत है यानी कि एप्लीकेशन और आधार में जो नाम दीया गया है उनमें अंतर है तो आप इसे ऑनलाइन ठीक कर सकते हैं। और अगर कोई और भी गलती है तो आप इसे अपने लेखपाल या कृषि विभाग कार्यालय में संपर्क कीजिए।

उत्तर प्रदेश में कई ऐसे जिले हैं जहां पर सवा लाख किसानों का डाटा वेरिफिकेशन के मामले में पेंडिंग है। किसान है सोचता रहता है कि उन्होंने आवेदन कर दिया है और अब कैसा आने लगेगा लेकिन कुछ गलती के कारण से उस किसान को लाभ नहीं मिल रहा है।

जब सरकार साधु के घाटा को बैरी भाई घर के केंद्र सरकार को भेजती है; फिर जाकर आवेदन करता के बैंक अकाउंट में पैसा आने लगता है।

सरकार अपने लक्ष्य से अभी दूर है

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के द्वारा केंद्र सरकार ने 14.5 करोड़ किसानों को पैसा देने का ऐम रखा है;। लेकिन योजना के दो साल बाद भी अब तक सिर्फ 11.45 करोड़ किसानों को ही लाभ मिल रहा है।

इसकी वजह वेरिफिकेशन में हो रही गलती या देरी भी है;। प्रधानमंत्री योजना का सालाना बजट ₹75 हजार करोड़ का है। ज्यादा से ज्यादा अन्नदाता; कोई लाभ मिल सके इसके लिए प्रधानमंत्री किसान योजना वे खुद रजिस्ट्रेशन करने की सुविधा भी दी गई है।

इसे भी पढ़े…

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *