मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना: UP Bal Shramik Vidya Yojana ऑनलाइन आवेदन

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना की शुरुआत उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ जी के द्वारा श्रमिक परिवार के बच्चो को अच्छा जीवन प्रदान करने के लिए की गयी है। इस योजना के अंतर्गत यूपी के अनाथ बच्चों तथा मजदूरों के बच्चों को शिक्षा प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

इस योजना के तहत राज्य के बालको को 1000 रूपये प्रतिमाह और बालिकाओ को 1200 रूपये प्रतिमाह राज्य सरकार द्वारा मुहैया कराये जायेगे। प्यारे दोस्तों आज हम आपको अपने इस लेख के द्वारा से इस UP Bal Shramik Vidya Yojana से जुडी पूरी जानकारी जैसे एप्लाई प्रक्रिया ,पात्रता ,दस्तावेज़ आदि बताने जा रहे है अतः हमारे इस लेख को लास्ट तक पढ़े।

UP Bal Shramik Vidya Yojana

इस योजना के द्वारा राज्य के जो भी श्रमिक बच्चे 8th,9th और 10th कक्षा में पढ़ रहे है उन्हें U.P सरकार द्वारा हर साल 6000 रूपये की धनराशि से मदद प्रदान की जाएगी। इस UP Bal Shramik Vidya Yojana के द्वारा इस साल 2000 बच्चो को लाभान्वित किया जायेगा।

राज्य के जो भी छात्र इस योजना का लाभ उठाना चाहते है तो उन्हें इस योजना में आवेदन करना होगा। यह उत्तर प्रदेश मजदूर बाल शिक्षा योजना श्रमिकों के बच्चों को स्वस्थ जीवन जीने में आसान बनाएगी।
आठ से 18 साल के बच्चों को स्कूल-कॉलेज में होना ज़रूरी है लेकिन खराब हालात के बजह से वह श्रम से जुड़ जाते हैं। ऐसे बच्चों को इस बाल श्रमिक विद्या योजना के द्वारा लाभ दिया जायेगा।

UP Bal Shramik Vidya Yojana Highlights

योजना का नाम मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना
इनके द्वारा शुरू की गयी मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ जी
लाभार्थी राज्य के गरीब बालक बालिका
उद्देश्य आर्थिक सहायता प्रदान करना

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना का उद्देश्य

जैसे की आप लोग जानते है; कि राज्य में बहुत सारे ऐसे भी लोग है जो श्रम करके अपने घर का पालन पोषण करते है; और जब बचपन में बच्चे अपने पारिवारिक खर्चों के लिए बाल श्रम करने पर मजबूर हो जाते हैं; तो उनके शारिरिक एवं मानसिक विकास पर प्रभाव पड़ता है.

उत्तर प्रदेश सरकार ने आज इसी ओर एक और कदम उठाया है। मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना के द्वारा राज्य सरकार छात्रों को 1,000 रूपये महीना और बलिकाओं को 1,200 रूपये हर महीना की आर्थिक मदद प्रदान करेगी।

इससे छात्रों की पढाई की व्यवस्था की जा सकती है; इस योजना के द्वारा श्रमिक बच्चो के भविष्य को अच्छा बनाना; और देश को प्रगति की ओर ले जाना है।

इस योजना के ज़रिये श्रमिकों; के बच्चों को बाल श्रमिकों के रूप में काम करने से रोकने के लिए मासिक वित्तीय; सहायता प्रदान करेगा और इसके बजाय उनकी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करेगा।

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना कब शुरू हुईं

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना 12 जून 2020 को बाल श्रमिक; निषेध दिवस के दिन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा शुरू की गायी थी।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य श्रमिक परिवार के बच्चों; को अच्छी जीविका प्रदान करना है। इस योजना के माध्यम से बच्चों; को शिक्षा तथा खाना दोनों प्रदान किए जाएंगे। जिससे कि उनके भविष्य में सुधार आएगा।

उत्तर प्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना पहला चरण

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना के पहले चरण; में 2,000 श्रमिकों के बच्चों को कवर करने का टारगेट घोषित किया गया है

इस योजना के सफलतापूर्वक संचालन के लिए सरकार द्वारा ट्रायल; के आधार पर उत्तर प्रदेश के 10 जिलों में ऐसी ही एक योजना आरंभ की थी

जिसके बाद सरकार द्वारा मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना का आरंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत 8 से लेकर 18 साल की उम्र; के बच्चे शामिल किए गए हैं।

Uttar Pradesh Bal Shramik Vidhya Yojana के लाभ

  • इस योजना का लाभ उत्तर प्रदेश के गरीब बच्चो को प्रदान किया जायेगा।
  • जाएगी। इस योजना के तहत राज्य के बालको को 1000 रूपये प्रतिमाह और बालिकाओ को 1200 रूपये प्रतिमाह राज्य सरकार द्वारा मुहैया कराये जायेगे।
  • मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना के अंतर्गत राज्य के जो श्रमिक बच्चे 8th,9th और 10th कक्षा में पढ़ रहे है उन्हें सरकार द्वारा हर साल 6,000 रूपये की मदद प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए लोग वेबसाइट (लॉन्च होने के लिए) में; यूपी बाल श्रमिक विद्या योजना आवेदन फॉर्म भरकर ऑनलाइन एप्लाई कर सकेंगे।
  • बाल श्रम के खिलाफ 12 जून 2020 को 12 जून 2020 को यूपी बाल श्रमिक योजना के शुभारंभ के रूप में 2,000 से अधिक छात्रों को धनराशि भेजी जाएगी।
  • Uttar Pradesh Bal Shramik Vidhya Yojana के द्वारा अधिक छात्रों और उन्हें बाल श्रमिक के रूप में काम करने से रोकने के लिए उत्तर प्रदेश मजदूर बाल शिक्षा योजना शुरू की जाएगी।

UP Bal Shramik Vidya Yojana की चयन प्रक्रिया

  • उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना के अंतर्गत बच्चों की पहचान श्रम विभाग के अधिकारियों की ओर से सर्वेक्षण/ निरीक्षण में, ग्राम पंचायतों, स्थानीय निकाय, चाइल्डलाइन अथवा विद्यालय प्रबंध समिति द्वारा किया जाएगा।
  • यदि माता या पिता या फिर दोनों किसी लाइलाज रोग से पीड़ित है तो उनके बच्चों को चयन की प्राथमिकता दी जाएगी। इस प्राथमिकता के लिए चीफ मेडिकल ऑफिसर के द्वारा दिया गया एक सर्टिफिकेट देना होगा।
  • भूमिहीन परिवारों और महिला प्रमुख परिवारों के चयन के लिए 2011 की जनगणना की सूची का उपयोग किया जाएगा।
  • प्रत्येक लाभार्थी की चयन की मंजूरी के बाद इसे e-tracking सिस्टम पर अपलोड किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश बाल श्रमिक विद्या योजना के दस्तावेज़ (पात्रता)

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक को आयु 8 से 18 वर्ष होनी चाहिए
  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना 2020 में आवेदन कैसे करे?

उत्तर प्रदेश के जो इच्छुक लाभार्थी इस योजना का लाभ उठाना चाहते है तो उन्हें अभी इंतज़ार करना होगा क्योकि हाल ही में इस योजना की शुरू किया गया है और अभी इस मुख्यमंत्रीबाल श्रमिक विद्या योजना के तहत आवेदन करने के लिए आवेदन प्रक्रिया को शुरू नहीं किया गया है।

जैसे ही सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत आवेदन प्रक्रिया को शुरू कर दिया जायेगा हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से बता देंगे आवेदन प्रक्रिया को आरम्भ होने के बाद आप इस UP Bal Shramik Vidya Yojana के तहत आवेदन कर सकते है और सरकार द्वारा वित्तीय सहायता प्राप्त कर सकते है।

Contact Information

हमने अपने इस लेख के माध्यम से आपको मुख्यमंत्री बाल श्रमिक विद्या योजना से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान कर दी है। यदि आप अभी भी किसी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप यहां दी गई लिंक पर क्लिक करके संबंधित विभाग से संपर्क कर सकते हैं और अपनी समस्या का समाधान कर सकते हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *